Independence Day Speech in Hindi 2022 (स्वतंत्रता दिवस में भाषण 2022)

Independence Day Speech in Hindi 2022: स्वतंत्रता दिवस ( Independence Day)  भारत में हर साल 15 अगस्त को मनाया जाता है। 15 अगस्त के दिन स्वतंत्रता दिवस को पूरे भारत के लोग अपने अपने तरीके से मनाते हैं। सबसे बड़ी बात यह मानी जाती है कि इस शुभ मौके पर सभी जाति, धर्म के लोग बिना किसी भेदभाव के इस दिन को मिलजुल कर मनाते हैं।

भारत की आजादी को 75 साल पूरे हो चुके हैं। 15 अगस्त 2022 को भारत देश अपना 76वा आजादी उत्सव मनाने जा रहा है। स्वतंत्रता दिवस के दिन देश के प्रधानमंत्री लाल किले पर झंडा फहराते हैं। झंडा फहराते हुए राष्ट्रीय गान गाया जाता है और सभी स्वतंत्रता सेनानियों को 21 तोपों की श्रद्धांजलि प्रदान की जाती है। देश के प्रधानमंत्री द्वारा हर साल भारत वासियों को अपने भाषण के द्वारा संबोधित किया जाता है। इस दिन शक्ति प्रदर्शन और परेड मार्च आयोजन किया जाता है। स्वतंत्रता दिवस के दिन सभी भारतवासियों के मन में पूर्ण जोश के साथ साथ देशभक्ति की भावना भी उजागर होती है। आजादी के बाद भारत देश ने बहुत उन्नति कर ली है।

15 अगस्त 1947 को भारत को आजादी प्राप्त हुई थी। अंग्रेजों ने पूरे भारत पर पूरे 200 साल तक राज किया था। सभी लोगों को उन क्रांतिकारियों का एहसानमंद होना चाहिए। जिन्होंने अपनी जान भारत को आजाद कराया था। इस दिन 1947 को भारत में ब्रिटिश राज का अंत हुआ था और स्वतंत्र भारत स्थापित हुआ था। भारत पर 100 सालों तक ईस्ट इंडिया कंपनी (East India Company) ने राज किया था और 100 सालों तक ब्रिटिश क्रॉउन (British crown) ने राज किया था। दोनों देशों ने 200 सालों तक भारत में राज किया था। लेकिन हमारे देश के वीर क्रांतिकारियों के बलिदान के कारण भारतीयों को आजादी की खुली हवा में सांस लेने का मौका मिला।

Here are few samples of Hindi speech on independence day:

 Independence Day (स्वतंत्रता दिवस) का महत्व

  • स्वतंत्रता हर एक व्यक्ति के लिए बहुत महत्व रखती है और भारतीय लोगों के लिए Independence Day का भी उतना ही महत्व होता है।
  • स्वतंत्रता दिवस ( Independence Day ) के शुभ अवसर पर सभी भारतीय द्वारा आजादी के महत्व को समझते हुए। उन सभी वीरों के बलिदान को याद किया जाता है। जिन्होंने देश के खातिर अपनी जान गवाई थी।
  •  स्वतंत्रता दिवस ( Independence Day)  के शुभ दिन पर सभी व्यक्तियों के अंदर देशभक्ति की भावना जागृत होती है। इसके साथ ही राष्ट्रीय प्रतीकों और शहीदों के लिए सम्मान की भावना उभरती है।

स्वतंत्रता दिवस ( Independence Day) का इतिहास

  • भारत में  17 वी शताब्दी की शुरुआत में अंग्रेज व्यापारी व्यापार करने के लिए आए थे। तथा अंग्रेजों ने भारत में ईस्ट इंडिया कंपनी (East India Company)की स्थापना की थी। जिसने बाद में 1757 में प्लासी के युद्ध के दौरान अपनी सैन्य ताकत बढ़ाकर युद्ध में जीत हासिल करके भारत पर अपना राज शुरू कर दिया था।
  •  ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी (British East India Company) ने पूरे भारत पर धीरे-धीरे अपना अधिकार जमाना शुरू कर दिया या यह भी कहा जा सकता है, कि अंग्रेजों ने सभी भारतीय राजाओं को अपने अधीन कर लिया था।
  • भारत की आजादी के लिए भारतीयों द्वारा बहुत सारे संघर्ष किए गए हैं। लेकिन सबसे बड़ा और पहला संघर्ष 1817 में रानी लक्ष्मीबाई, मंगल पांडे, तात्या टोपे जैसे वीरों की अध्यक्षता में हुआ था। उस समय यह युद्ध असफल हो गया था।परंतु फिर भी इस युद्ध के कारण अंग्रेजी शासन की नींव हिल गई थी।
  • इसी युद्ध के बाद ईस्ट इंडिया कंपनी का शासन भारत में खत्म हो गया था और सीधा ब्रिटिश क्राउन भारत पर शासन करने लग गया।
  • परंतु भारतीयों को भी ब्रिटिश शासन बिल्कुल पसंद नहीं आया और उन्हें स्वराज चाहिए था मतलब भारत की आजादी चाहिए थी। जिसके लिए भारतीय वीरों ने लगातार शांति और युद्ध दोनों तरीकों से संग्राम को जारी रखा।
  • इसी संग्राम के नतीजे के कारण बाद में भारत को दो भागों में बंटकर आजादी प्राप्त हुई 14 अगस्त 1947 को पाकिस्तान को आजाद किया गया था और 15 अगस्त 1947 को भारत को आजाद किया गया था।

स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) पर भाषण

भारत देश को आजादी 15 अगस्त 1947 को मिली थी। सभी भारतीयों को भारतीय नागरिक होने पर गर्व है पुराने समय में भारत देश को सोने की चिड़िया कहा जाता था। इस देश पर अनेकों विदेशी हमले हुए हैं। लेकिन भारतीयों ने हमेशा इस पर विजय प्राप्त की है। इसी प्रकार अंग्रेजों ने भी भारत देश पर सीधा हमला नहीं किया था। वह व्यापारी बनकर इंडिया में आए थे और धीरे-धीरे देश पर अपना शासन स्थापित कर लिया था।

परंतु देश के वीर जवानों को गुलामी की जिंदगी मंजूर नहीं थी। उन्होंने अंग्रेजों को चैन की सांस नहीं लेने दी। भारतीय वीर जवान अपने देश की आजादी के लिए लड़ते लड़ते शहीद भी हो गए। भारत को आजाद करवाने के लिए आदिवासी जंगलों से लेकर विकसित शहरों तक सभी ने अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया। जिसमें से मुख्य झांसी की रानी लक्ष्मीबाई, वीर कुंवर सिंह, मंगल पांडे, तात्या टोपे और भी अनेकों नाम शामिल है। जिन्होंने आजादी के लिए अपनी जान कुर्बान कर दी थी। कुछ वीर क्रांतिकारियों के नाम बहुत से लोग जानते भी नहीं होंगे। परंतु उन सभी वीर जवानों को याद को दिल में सजा कर रखना चाहिए। आजादी की लड़ाई में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का भी काफी महत्वपूर्ण योगदान रहा है। जिसमें से गरम दल और नरम दिल दोनों ने अपना महत्वपूर्ण योगदान प्रदान किया है।

स्वतंत्रता दिवस के इस महत्वपूर्ण दिन पर उन सभी वीर जवानों को याद किया जाता है। जिन्होंने देश की खातिर अपनी जान गवाई और अपने परिवार सहित देश से बाहर रहना पड़ गया था। उन सभी वीर क्रांतिकारियों को याद करते हुए आजादी का जश्न मनाना चाहिए और हमेशा हमको याद रखना चाहिए। भारतीय नागरिकों को उन सभी क्रांतिकारियों का एहसानमंद होना चाहिए। जिन्होंने अपनी जान गवा कर हमारे देश को आजाद कराया है। हर एक नागरिक को भारतीय होने के नाते सभी स्वतंत्रता सेनानियों के आगे हाथ जोड़कर उन्हें धन्यवाद करना चाहिए। ।जिनके त्याग के कारण देश का अस्तित्व एक पंछी की तरह आजाद हो गया

भारतीय नागरिकों को उन सभी क्रांतिकारियों का आभारी होना चाहिए। जिन्होंने देश को आजाद करने के लिए अपनी जान निछावर कर दी थी।

Spread the Knowledge

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *