Meri Policy Mere Hath Scheme 2022/ ‘मेरी पॉलिसी मेरे हाथ’ योजना

Spread the Knowledge

Meri Policy Mere Hath Scheme 2022/ Meri Policy Mere hath offline and Online Registration Details

भारत सरकार ने किसानों की खुशहाली के लिए और उनकी मदद करने के लिए काफी सारी योजनाएं लाई हैं और उन्हीं योजनाओं की कड़ी में एक और योजना को जारी किया गया है जो है ‘मेरी पॉलिसी मेरा हाथ स्कीम’। केंद्र सरकार ने इस योजना की घोषणा शुक्रवार 18 फरवरी, 2022 को की; इस योजना की घोषणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा की गई और उन्होंने कहा कि किसानों को फसल बीमा पॉलिसी का पेपर देने के लिए घर घर अभियान शुरू किया जाएगा। इस योजना को जून महीने में शुरू कर दिया जाएगा और यह एक डोर स्टेप कैंपेन की तरह इंप्लीमेंट की जाएगी।

इस योजना के तहत आने वाले खरीफ सत्र में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की शुरुआत की गई और यह किसानों के फायदे के लिए शुरू की गई सातवें साल की योजना होगी। इस योजना के तहत सरकार की तरफ से जो भी नीतियां चलाई जा रही हैं उनको किसानों तक पहुंचाया जाएगा; भूमि रिकॉर्ड दवे की प्रक्रिया एवं शिकायत निवारण जैसी सारी जानकारी इसी योजना के तहत किसानों तक पहुंचा दी जाएगी।

‘मेरी पॉलिसी मेरे हाथ योजना का उद्देश्य

इस योजना का मुख्य उद्देश्य किसानों की समस्याओं का समाधान करना है और उन्हें सरकार की नीतियों के बारे में जागरूक करवाना है। कृषि मंत्रालय के अनुसार इस योजना के तहत प्राकृतिक आपदाओं के कारण जिन किसानों की फसलों का नुकसान हो जाता है उन पीड़ित किसानों को सरकार की तरफ से आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। आर्थिक तौर पर किसानों को फायदा पहुंचाना ही इस योजना का मूल उद्देश्य है।

मेरी पॉलिसी मेरे हाथ योजना के तहत दिए जाने वाले फायदे

  • कृषि मंत्रालय के अनुसार 36 करोड से अधिक किसानों का बीमा किया जाएगा।
  • फसल बीमा योजना के तहत 4 फरवरी, 2022 तक 1,07,059 करोड़ रुपए से ज्यादा दावों का भुगतान कर दिया गया है और आगे इस नई योजना के तहत 85% छोटे और सीमांत किसानों को फायदा पहुंचाया जाएगा।
  • फसल बीमा योजना के तहत कमजोर वर्ग के किसानों को विशेष तौर पर लाभ दिए जाएंगे।
  • इस योजना के तहत किसानों की समस्याओं के निवारण के लिए ऑनलाइन समाधान दिए जाएंगे और ऑनलाइन ही बैंक खातों में नुकसान का भुगतान किया जाएगा।
  • यदि किसी घटना के कारण किसान को नुकसान पहुंचता है तो वह 72 घंटे के अंदर अपनी शिकायत दर्ज करवा सकता है और इस योजना के तहत जो ऐप चलाई जा रही है वहां से समाधान प्राप्त कर सकता है।
  • जो किसान एप्लीकेशन के जरिए अपनी शिकायत दर्ज कराने में असमर्थ है वह CSE केंद्र या फिर निकटतम कृषि अधिकारी के पास भी जा सकते हैं उन्हें भी वही सुविधाएं दी जाएंगी जो इस योजना के तहत लागू की जा रही है।
  • इस योजना के तहत सभी किसानों को लैंड रिकॉर्ड, पॉलिसी, फसल बीमा और शिकायत निवारण जैसी सुविधाएंघर बैठे ही प्रदान की जाएंगी।
  • इस योजना के तहत कृषि अधिकारी किसानों के घर जाकर उन्हें फसल के रिकॉर्ड भूमि रिकॉर्ड दावे की प्रक्रिया जैसी जानकारी देंगे और उससे संबंधित डॉक्यूमेंट भी प्रदान करेंगे।
  • इस योजना के सुचारु कार्यान्वयन के लिए प्रौद्योगिकी के एकीकरण को और भी ज्यादा मजबूत किया जाएगा।
  • मुख्य रूप से किसानों को वित्तीय संकट से उबारने के लिए ही इस योजना को लांच किया गया है क्योंकि ज्यादातर यह पाया गया है कि जो छोटे किसान हैं उन्हें सरकार की पॉलिसी की कोई जानकारी नहीं होती और उन तक पहुंच भी नहीं पाती।छोटे किसानों तक योजनाओं की सारी जानकारी पहुंचाने के लिए यह योजना लांच की गई है और इसके अनुसार  किसानों के घर जाकर ही उन्हें जानकारी दी जा सकती है और पॉलिसी के लिए जागरूक किया जा सकता है।
  • इस योजना के तहत लगभग दो लाख तक का बीमा किया जाएगा और किसानों को आर्थिक लाभ पहुंचाया जाएगा।

‘मेरी पॉलिसी मेरे हाथ’ योजना के तहत बीमा

यह एक बीमा योजना भी है इसलिए इस योजना के तहत किसानों को खरीफ की फसल का 2%, रबी की फसल का 1.50% के हिसाब से प्रीमियम का भुगतान करना होगा और जो बाकी की राशि होगी वह सरकार की तरफ से दी जाएगी। भविष्य में जब भी कभी किसानों की फसल किसी भी कुदरती आपदा की वजह से बर्बाद हो जाती है तो ऐसे में यह राशि उन्हें  बीमा भुगतान के रूप में वापस कर दी जाएगी;  भुगतान की राशि उन्हें ऑनलाइन ही दी जाएगी।

इस इस योजना के तहत बीमा का लाभ प्राप्त करने के लिए किसानों को फसल की बुवाई करने के 10 दिन के अंदर अंदर फसल का बीमा करवाना होगा नहीं तो वह इस योजना का लाभ प्राप्त नहीं कर पाएंगे। बीमा होने के पश्चात जिन किसानों की फसल कुदरती कहर की वजह से बर्बाद होती है केवल उन्हें ही बीमा लाभ प्रदान किए जाएंगे।

‘मेरी पॉलिसी मेरे हाथ योजना’ के तहत आवेदन के लिए पात्रता

  • इस योजना का फायदा केवल भारत के छोटे किसान ही प्राप्त कर पाएंगे।
  • किसानों को भारत का मूल निवासी होना अनिवार्य है, इसलिए उन्हें विशेष तौर पर इससे संबंधित प्रमाण पत्र भी जमा करवाना होगा।
  • जो किसान पहले से ही किसी बीमा योजना का लाभ प्राप्त कर रही हैं, उन्हें इस योजना के तहत एप्लीकेशन देने की अनुमति नहीं है।
  • भूमिहीन किसान इस योजना के तहत एप्लीकेशन नहीं दे सकते।
  • किसानों के पास अपना बैंक खाता एवंखेत से संबंधित कागजात होने अनिवार्य है तभी वह इस योजना के लिए अप्लाई कर पाएंगे।

योजना के तहत आवेदन करने के लिए दस्तावेज

  • आवेदक का आधार कार्ड
  • किसान कार्ड
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मूल निवासी पहचान पत्र
  • बैंक खाता एवं बैंक पासबुक
  • जमीन से संबंधित दस्तावेज
  • मोबाइलनंबर

मेरी पॉलिसी मेरे हाथ’ योजना के तहत ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

  • इस योजना के तहत रजिस्टर करने के लिए सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट https://pmfby.gov.in/ पर जाना होगा।
  • वेबसाइट ओपन होने के बाद Register के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आवेदक को स्टेकहोल्डर, बैंक और कैटेगरी का चुनाव करना होगा और इसके बाद क्रिएट बटन पर क्लिक करना होगा।
  • इसके पश्चात अकाउंट क्रिएट हो जाएगा।
  • एक बारी जब अकाउंट क्रिएट हो जाएगा तो आवेदक कभी भी अपने अकाउंट को लॉगइन कर पाएगा।

लॉगइन प्रक्रिया

  • लॉगइन करने के लिए आवेदक कोआधिकारिक लिंक https://pmfby.gov.in/ पर जाने के पश्चात लॉगइन के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • इसके पश्चात एक लॉगइनफॉर्म खुल जाएगा।
  • इस लॉगइन फॉर्म में आईडी पासवर्ड भरने के पश्चात सबमिट के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • सबमिट बटन पर क्लिक करते ही लॉगिन प्रक्रिया पूरी हो जाएगी और आवेदक अकाउंट को देख पाएगा और योजनाओं की सारी लिस्ट उसके सामने आ जाएगी।
  • यहीं पर आवेदक को बीमाके प्रीमियम का भुगतान करना होगा।

मेरी पॉलिसी मेरे हाथ’ योजना के तहत ऑफलाइन प्रक्रिया

  • जो किसान ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाने में असमर्थ है, वह ऑफलाइन प्रक्रिया के माध्यम से भी रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं।
  • ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए किसानों को अपने नजदीकी CSE सेंटर जाना होगा।
  • वहां पर फसल बीमा योजना का आवेदनपत्र प्राप्त करना होगा।
  • पूछी गई जानकारी दर्ज करने के बाद आवश्यकतानुसार दस्तावेजों को अटैच करना होगा।
  • जमा करवाने से पहले प्रीमियम राशि का भुगतान करवाना होगा।
  • इस प्रकार आवेदन प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

प्रीमियम कैलकुलेट करने की प्रक्रिया

  • प्रीमियम कैलकुलेट करने के लिए सबसे पहले आवेदक को ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा।
  • वेबसाइट पर जाने के बाद Insurance Premium Calculatorपर क्लिक करना होगा।
  • क्लिक करने के बाद केलकुलेटर ओपन हो जाएगा।
  • यहां पर आवेदक को सीजन, साल, स्कीम, राज्य, जिला और फसल की जानकारी दर्ज करनी होगी।
  • उसके बाद Calculate बटन पर क्लिक करना होगा।
  • बटन पर क्लिक करते ही सारी जानकारी और प्रतिशत राशि सामने आ जाएगी जिससे पता चल जाएगा कि कितना बीमा मिल सकता है।

संपर्क एवं हेल्पलाइन नंबर

इस योजना से जुड़ी कोई भी जानकारी प्राप्त करने के लिए एक हेल्पलाइन आईडी भी दी गई है, जहां पर जाकर आवेदक अपने प्रश्न पूछ सकते हैं और उसके उत्तर जान सकते हैं।

ईमेल आईडी: help.agriinsurance@gov.in

छोटे किसानों की समस्याओं को समझते हुए इस कैंपेन को शुरू किया गया है और किसानों को भी चाहिए कि वह अपना नाम इसमें अवश्य रजिस्टर करवा ले ताकि भविष्य में यदि कोई भी आपदा आती है और उनकी फसल बर्बाद होती है तो उस समय उन्हें आर्थिक समस्या का सामना ना करना पड़े।


Spread the Knowledge

Leave a Reply

Your email address will not be published.