Tata Group Companies List 2023: Tata Group Subsidiaries, List of Companies Owned by Tata

टाटा ग्रुप भारत के सबसे बड़े संगठनों में से एक है। टाटा ग्रुप की 10 सेक्टरों में 30 कंपनियां हैं। टाटा ग्रुप की स्थापना जमशेदजी टाटा ने वर्ष 1868 में की थी। जमशेदजी टाटा एक महान व्यक्तित्व वाले एक महान दूरदर्शी व्यक्ति थे। टाटा ग्रुप की कंपनियां दुनिया भर के 100 से अधिक देशों में हैं। टाटा समूह की 29 कंपनियां शेयर बाजार में सूचित हैं। ये कंपनियां INR 9.3 ट्रिलियन के संयुक्त बाजार पूंजीकरण (Combined Market Capitalisation) में योगदान करती हैं। टाटा संस की 60% से अधिक शेयर पूंजी परोपकारी ट्रस्ट के पास है। यह ट्रस्ट शिक्षा, स्वास्थ्य, आजीविका और कला और संस्कृति को बेहतर बनाने का काम करता है।

Tata Group Companies List 2023 (Tata group Subsidiaries)

  1. टाटा कंसल्टेंसी सर्विस। [ Largest Tata Group Subsidiaries]

टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज एक आईटी सेवा, परामर्श और व्यावसायिक संगठन है जो पिछले 50वर्षों से दुनिया के सबसे बड़े व्यवसायों को उनकी परिवर्तन यात्रा में योगदान दे रहा है।टाटा कंसलटेंसी सर्विसेज लिमिटेड भारत की सबसे बड़ी मल्टीनेशनल इनफॉरमेशन टेक्नोलॉजी कंपनी है। टाटा ग्रुप की इस कंपनी का मुख्य ऑफिस मुंबई में हैं और दुनिया के 46 शहरों में इसके149 दफ्तर हैं।यह कंपनी आज दुनिया की सबसे वैल्युएबल  कंपनी में शामिल है और 2015 फोर्ब्सरैंकिंग मे 64 वी सबसे बेहतरीन कंपनी मानी गई है।

  • रेवेन्यू: 152,497 करोड़ रुपये
  • मार्केट कैप: 769,764 करोड़ रुपये
  • कर्मचारी: 424,285

टाटा समूह का एक हिस्सा, भारत का सबसे बड़ा बहुराष्ट्रीय व्यापार समूह, टीसीएस के पास 50 देशों में दुनिया के सर्वश्रेष्ठ प्रशिक्षित सलाहकारों में से 420,000 से अधिक हैं। यह market capitalization के आधार पर सबसे बड़ी टाटा समूह की सहायक कंपनी है।

  1. टाटा स्टील लिमिटेड

टाटा स्टील को भारत में 1907 में एशिया की पहली integrated private स्टील कंपनी के रूप में स्थापित किया गया था। भारतीय ऑपरेशनस में crude स्टील की कंपनियों की क्षमता लगभग 19 MnTPA है। टाटा स्टील यूरोप में दूसरा सबसे बड़ा steel उत्पादक है, जिसकी crude steel उत्पादन क्षमता 12.1 एमएनटीपीए से अधिक है। यह टाटा ग्रुप ऑफ कंपनीज की सबसे बड़ी स्टील कंपनी है।

  • रेवेन्यू: 1,60,769 करोड़ रुपये
  • मार्केट कैप: 39,939 करोड़ रुपये
  • कर्मचारी: 32,984
  • कुल क्षमता: 34 एमएनटीपीए

टाटा स्टील ने वर्ष 18-19 में भूषण स्टील लिमिटेड को अपने अधीन किया था। टाटा स्टील समूह ने अपनी एक सहायक कंपनी के माध्यम से उषा मार्टिन लिमिटेड के steel business को भी अपने अधीन कर लिया था। टाटा स्टील की जमशेदपुर, झारखंड और कलिंगनगर, ओडिशा में इकाइयाँ हैं, जिनकी उत्पादन क्षमता क्रमशः 10 MTPA और 3 MNTPA है।

  1. टाटा मोटर्स लिमिटेड

टाटा मोटर्स दुनिया की एक leading ऑटोमोबाइल निर्माताओं में से एक है, जो 175 से अधिक देशों को गतिशीलता प्रदान करता है। इसके पोर्टफोलियो में कारों, उपयोगिता वाहनों, ट्रकों और बसों की एक विस्तृत (wide range) श्रृंखला शामिल है। यह टाटा के के अंतर्गत दूसरी सबसे बड़ी कंपनी है।

  • रेवेन्यू: 296,917 करोड़ रुपये
  • मार्केट कैप: 41,562 करोड़ रुपये
  • कर्मचारी: 82,797
  • प्रमोटर होल्डिंग: 38.37%

इस कंपनी के पास 134 सहायक कंपनियों, सहयोगी कंपनियों और संयुक्त उद्यमों का एक मजबूत नेटवर्क है, जिसमें यूके में जगुआर लैंड रोवर शामिल हैं। टर्नओवर के आधार पर यह कंपनी टाटा समूह की सबसे बड़ी सहायक कंपनी है।

  1. टाइटन कंपनी लिमिटेड

टाइटन की स्थापना 1984 में टाटा समूह और तमिलनाडु औद्योगिक विकास निगम (टीआईडीसीओ) के बीच एक joint venture के रूप में हुई थी, जिसने 1984 में टाइटन वॉचेज लिमिटेड के नाम से अपना परिचालन शुरू किया था।

  • रेवेन्यू: 19,070 करोड़ रुपये
  • मार्केट कैप: 118,027 करोड़ रुपये
  • कर्मचारी: 7,213

टाइटन दुनिया का पांचवां सबसे बड़ा integrated खुद का ब्रांड घड़ी निर्माता है। पिछले तीन दशकों में, टाइटन ने underpenetrated वाले बाजारों में विस्तार किया है और विभिन्न उत्पाद श्रेणियों में लाइफस्टाइल ब्रांड बनाए हैं।

  1. टाटा केमिकल्स लिमिटेड

1939 में स्थापित, टाटा केमिकल्स लिमिटेड (TCL) 110 बिलियन अमेरिकी डॉलर के टाटा समूह का एक हिस्सा है। यह वैश्विक कंपनी, पांच महाद्वीपों पर 40+ देशों में ग्राहकों की सेवा करती है। 31 मार्च 2019 को बाजार पूंजीकरण (market capitalisation) 15,000 करोड़ रुपये था।

  • रेवेन्यू: 11,449 करोड़ रुपये
  • मार्केट कैप: 15,603 करोड़ रुपये।
  • प्रमोटर होल्डिंग: 30.63%

यह दुनिया में तीसरा सबसे बड़ा सोडा ऐश (soda ash) निर्माता और दुनिया में छठा सबसे बड़ा सोडियम बाइकार्बोनेट निर्माता है। टाटा केमिकल्स टाटा समूह की सहायक कंपनियों में से एक है। टीसीएल के तीन बिजनेस डिवीजन हैं बेसिक केमिस्ट्री प्रोडक्ट्स, कंज्यूमर प्रोडक्ट्स और स्पेशलिटी प्रोडक्ट्स।

  1. टाटा पावर कंपनी लिमिटेड

टाटा पावर, अपनी सहायक कंपनियों और संयुक्त संस्थाओं के साथ, conventional and renewable energy और अगली पीढ़ी के ग्राहक समाधानों की संपूर्ण बिजली मूल्य श्रृंखला में मौजूद है। टाटा पावर 10,957 मेगावाट की परिचालन उत्पादन क्षमता के साथ अखिल भारतीय उपस्थिति है। यह टाटा के के अंतर्गत सबसे बड़ी बिजली कंपनी है। टाटा पावर के पास 1388 मेगावाट सौर उत्पादन क्षमता का मजबूत पोर्टफोलियो है। इसने हाल ही में आंध्र प्रदेश के अनंतपुर सोलर पार्क में 100 मेगावाट का सोलर प्लांट चालू किया है।

  • Total sales: 30,022 करोड़ रुपये
  • कर्मचारी: 1,989
  • स्थापित क्षमता: 10,957 मेगावाट
  • Market share: 3.2%
  1. इंडियन होटल्स कंपनी लिमिटेड

आईएचसीएल दक्षिण एशिया का सबसे बड़ा आतिथ्य केंद्रित उद्यम है जो सच्चे भारतीय मूल के साथ है। उपभोक्ताओं और व्यवसायों में 115 साल से अधिक की विरासत द्वारा समर्थित, इसे मूल रूप से टाटा समूह के संस्थापक जमशेदजी टाटा द्वारा 1902 में शामिल किया गया था।

  • रेवेन्यू: 4,552 करोड़ रुपये।
  • मार्केट कैप: 17,952 करोड़ रुपये।
  • प्रमोटर होल्डिंग: 39.09%
  1. टाटा ग्लोबल बेवरेजेज लिमिटेड

टाटा ग्लोबल बेवरेजेज ब्रांडेड natural beverage-चाय, कॉफी और पानी पर केंद्रित है। beverage market में एक लंबे इतिहास, अनुभव और विकास की विरासत के साथ, यह कंपनी मुख्य रूप से घरेलू भारतीय चाय कृषि इकाई से एक Global संगठन के रूप में विकसित हुई है।

  • रेवेन्यू: 7,346 करोड़ रुपये
  • मार्केट कैप: 17,627 करोड़
  • प्रमोटर होल्डिंग: 34.45%
  1. टाटा कम्युनिकेशंस लिमिटेड

टाटा कम्युनिकेशंस मानव गतिविधि के विकास में एक महत्वपूर्ण क्षण में काम कर रहा है – FOURTH INDUSTRIAL REVOLUTION। यह कंपनी दुनिया भर के 200 से अधिक देशों और क्षेत्रों में मौजूद global स्तर पर 7,000 से अधिक ग्राहकों को सेवा प्रदान  करती है जो फॉर्च्यून 500 के 300 से अधिक का प्रतिनिधित्व करता है।

  1. वोल्टास लिमिटेड

भारत की सबसे बड़ी एयर कंडीशनिंग कंपनी के रूप में, वोल्टास परियोजना प्रबंधन में विशेषज्ञता वाली सबसे प्रतिष्ठित कंपनी में से एक है। कंपनी टाटा समूह की सहायक कंपनियों के तहत भारत में सबसे बड़ी एसी निर्माता है। वोल्टास, राष्ट्र के infrastructure के विकास के साथ-साथ प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग, निर्माण, शीतलन और वेंटिलेशन, बुनियादी ढांचा परियोजनाओं, कपड़ा, खनन और विनिर्माण क्षेत्रों में अपनी अद्वितीय विशेषज्ञता का निर्यात करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, जिससे वे सबसे भरोसेमंद और विश्वसनीय इंजीनियरिंग समाधान प्रदातामें से एक बन जाते हैं। यह टाटा के अंतर्गत वाली सबसे बड़ी एयर कंडीशनिंग कंपनी है।

  • रेवेन्यू: 7,630 करोड़ रुपये
  • मार्केट कैप: 23,131 करोड़।
  • प्रमोटर होल्डिंग: 30.30%

1868 में स्थापित, टाटा समूह एक वैश्विक उद्यम है, जिसका मुख्यालय भारत में है, जिसमें 10 वर्टिकल में 30 कंपनियां शामिल हैं। कई वैश्विक कंपनियों को खरीदने के बाद इस कंपनी को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिली। यह भारत के सबसे बड़े और सबसे पुराने औद्योगिक समूहों में से एक है। प्रत्येक टाटा कंपनी अपने स्वयं के निदेशक मंडल और Board of Directors के तहत स्वतंत्र रूप से काम करती है।

Spread the Knowledge

1 Comment

Add a Comment
  1. अजय कुमार शर्मा

    टाटा ग्रुप ऑफ़ कम्पनीस मै टायो रोल्स लिमिटेड कम्पनी भी है। इसमे टाटा की 54% हिस्सेदारी है। इसमें 700 कर्मचारी थे। बर्ष 2016 मै कम्पनी के निदेशक मंडल ने कम्पनी को बन्द करने का निर्णय लिया जिसमे टायो वर्कर्स यूनियन ने भी अपनी सहमती दी। पांच सितम्बर को कम्पनी ने अपना लाय्सेंस रद्द करने का आबेदन झारखण्ड प्रदेश के श्रम नियोजन एब्ं प्रशिक्षण मंत्रालय मै दिया। इस आबेदन के पुर्ब कम्पनी ने एक क्षति पूर्ति योजना जो 32 माह का बेतन देने की घोषणा की जिसे अधिकतर कामगारो ने अस्वीकृत कर दिया, तथा श्रम नियोजन एब्ं प्रशिक्षण मंत्रालय मै अपना बिरोध दर्ज किया।
    श्रम नियोजन एब्ं प्रशिक्षण मंत्रालय के प्रधान सचिब ने जाचोंप्रान्त कम्पनी के लाइसेंस रद्द करने के आबेदन को निरस्त कर दिया।
    कर्मचारियो की मांग है की कम्पनी अभी तक बन्द नही है तो उन्हे अक्तूबर 2016 से अब तक का बेतन ओर क्षति पूर्ति देने की ब्यबस्था की जाय। कुछ युबा बच्चे है उनका समायोजन टाटा की अनुषंगी इकाइयों मै कर दिया जाय।
    टायो ओर टाटा प्रबंधन द्वारा किये गये मुकदमे भी बापस लिये जाये। हम कामगारों द्वारा भी सभी मुकदमें बापस लेने के लिये तैयार हैं।
    टाटा ग्रुप के अध्यक्ष श्री चन्द्रशेखरन जी हम कामगार निबेदन करते हैं की हमारे मामले मै स्वत: संज्ञान लेते हुये उचित कार्रवाई करे तथा मामले को खत्म करने की दिशा मै निर्देश जारी करें।
    धन्यवाद ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *